BREAKINGCRIMEDOABAJALANDHARPUNJAB

🛑जालंधर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, किडनैपिंग की घटना को पुलिस ने डेढ़ घंटे में सुलझाया
🛑फाइनेंस कंपनी के 7 रिकवरी एजेंट गिरफ्तार,पढ़ें पूरा मामला

जालंधर (न्यूज़ लिंकर्स ब्यूरों) : जालंधर पुलिस को आज उस समय बड़ी कामयाबी मिली जब एक फाइनेंस कंपनी के रिकवरी एजेंटों द्वारा एक व्यक्ती से मारपीट करने व किडनैप करने के आरोपियों को डेढ़ घंटे के अंदर काबू कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार जालंधर पुलिस ने रामामंडी में हुई किडनैपिंग की घटना को डेढ़ घंटे में सुलझा लिया। बताया जा रहा है कि जालंधर में 1.50 लाख रुपए न देने पर फाइनेंस कंपनी के 7 रिकवरी एजेंटों ने व्यक्ति को किडनैप कर लिया था, लेकिन पुलिस ने थोड़ी देर में ही मामले की गुत्थी को सुलझा लिया और 7 रिकवरी एजेंटों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों में एक महिला भी शामिल है। वहीं कर्मचारी जिसको उठाकर ले गए थे उसका नाम अमरीक सिंह है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पकड़े गए लोगों की पहचान अर्शदीप पुत्र बलविंदर सिंह, गुरमीत कौर पत्नी जोगिंदर सिंह दोनों निवासी सठियाला, ब्यास, बलजीत पुत्र प्रीतम सिंह निवासी जंडियाला, अमृतसर, मनप्रीत पुत्र जगतार निवासी बल सरा, ब्यास, अमृतपाल पुत्र हरपाल सिंह, अर्शदीप पुत्र जागीर सिंह दोनों निवासी पत्ती ढाब बेहड़ा (अमृतसर) और इनके साथी नवांशहर के बहराम निवासी हरविंदर पुत्र नरिंदर सिंह के रूप में हुई है तथा सभी ब्यास की डांगा फाइनेंस कंपनी में रिकवरी एजेंट हैं। किडनैप हुए अमरीक सिंह की पत्नी हरजीत कौर ने पुलिस को शिकायत में बताया था कि उसका पति दोपहर को खाना खाने के बाद गली में टहल रहा था। इतने में एक टोयटा कोरोला कार नंबर PB-17A-5606 आई उसमें से 5 लोग उतरे और उन्होंने अमरीक सिंह को पीटना शुरू कर दिया। इसके बाद वह 2 लोग बाइक पर सवार होकर पहुंचे और उन्होंने हवा में देसी कट्‌टा लहराया और अमरीक को कार में डालकर ले गए। शिकायत मिलने के तुरंत बाद ही पुलिस ने शहर में नाकाबंदी कर दी। रामामंडी में ढिलवां चौक के पास पुलिस ने नाकाबंदी की हुई थी तो वहां पर PB-17A-5606 कार को रोका। इसके बाद वहीं मौके पर कार में सवार 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। इनसे पूछताछ के आधार पर नवांशहर के बहराम से हरविंदर पुत्र नरिंदर सिंह को भी गिरफ्तार किया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!