#JALANDHAR MUNICIPAL CORPORATION ELECTIONSBREAKINGDOABAJALANDHARPOLITICSPUNJAB

🔰पार्षद बनने की ललक बनी “बवासीर” : क्या भाजपा ही लगाएगी मरहम?!
🔰दल बदलुओं और आप विधायकों के “झोली चुक्कों” की आपसी जंग बनी मजाक!!

जालंधर (हितेश सूरी) : जालंधर में ज्यों-ज्यों जालंधर नगर निगम चुनाव नज़दीक आ रहे है, वैसे-वैसे पार्षद का चुनाव लड़ने के इच्छुक लोगो ने अलग-अलग राजनीतिक दलों से सम्पर्क साधना शुरू कर दिया है। दिलचसप मामला यह है कि वर्षों से ही ‘पंजाब की पुश्तैनी पार्टियों’ से जुड़े मौजूदा पार्षद, हारे पार्षद व पार्षद पद के इच्छुक व्यक्ति मौजूदा सरकार को ध्यान में रखते हुए पार्षद पद की दौड़ में शामिल हो चुके है। न्यूज़ लिंकर्स द्वारा सभी पार्टियों के आकलन के बाद जो लोकमत संग्रंह किया है, उसमे भाजपा की नगर निग़म एवं नगर पालिका कमेटियां लाने की सम्भावनाएं प्राप्त हो रही है। लोगो ने वर्तमान सरकार के कुछ महीनों के कार्यकाल में ही बहुत सबक लिया दिखाई प्रतीत हो रहा, कार्यों को गंभीरता से लिया है। विजिलेंस ब्यूरों, जी.एस.टी रेडों से चुनावों में सहायता न करने वाले लोगों से बदला लेने में जुटी वर्तमान सरकार लोगो को चिकित्सा व शिक्षा जैसी सेवाएं देने में असफल साबित हुई है और परेशानियां से बेहाल हुए लोग कांग्रेस, अकाली दल व आम आदमी पार्टी के विकल्प के रूप में भारतीय जनता पार्टी को लोगो के जन सम्पर्क में लाने के ज्यादा इच्छुक दिखाई दे रहे है। आम आदमी पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने अपना नाम ना छापने की शर्त पर बताया है कि पंजाब में आने वाले नगर निग़म चुनावों में यदि बीजेपी चुनाव जीतती है तो इसका सीधा लाभ आम आदमी पार्टी के नए आये विधायकों को भी मिलेगा क्योकि उनकी पारी बहुत छोटी है और ऐसे में सही पार्षद पद के लिए सही उम्मीदवारों का चयन करना संभव नहीं है। बहरहाल ऐसे लोगो को भी वार्डों में आप के पार्षद पद के लिए उम्मीदवार के रूप में उभारा जा रहा है, जिन लोगो की पृष्टभूमि राजनीती व सामाजिक कार्यों से जुडी नहीं है। वही दल बदलुओं और विधायकों के “झोली चुक्कों” को जनता सबक सिखाएगी। यह किस्सा जारी रहेगा, आपको जल्द बताएँगे किसका कितना तोल और किसका कितना मोल ??

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!