BREAKINGCRIMEDOABAJALANDHARPOLITICSPUNJAB

🔊FIR दर्ज : ‘फैन भगत सिंह दा क्लब’ के प्रधान मनीष राजपूत पर
🔊SHO 3 ने कहा शीघ्र होगी गिरफ्तारी
🔊मनीष राजपूत ने कहा राजनितिक दबाव में हुआ पर्चा दर्ज, नार्थ हल्के के एक बड़े नेता का हाथ

जालंधर (हितेश सूरी) : ‘फैन भगत सिंह दा’ क्लब के प्रधान मनीष राजपूत पर मामला दर्ज हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार खिंगरा गेट में बीते दिन मनीष राजपूत ने अपने साथियों सहित दुकान पर तोड़फोड़ की और व्यक्ति पर जानलेवा हमला किया है। इस दौरान शिकायतकर्ता मोहित अरोड़ा ने बताया कि फैन भगत सिंह दा क्लब के प्रधान मनीष राजपूत पर कई गंभीर आरोप लगाए है। शिकायतकर्ता मोहित अरोड़ा ने बताया कि मेरा 14 वर्षीया बेटा गर्व अरोड़ा मोहल्ले से गुजर रहा था और पेट्रोल खत्म होने के कारण वह एक्टिवा किनारे पर खड़ी करके किक मार ही रहा था कि वहां पर खड़ा फैन भगत सिंह दा क्लब का प्रधान मनीष राजपूत मेरे बेटे गर्व के साथ गाली गलौच करने लगा और बुरा भला कहने लगा तो मेरा बेटा गर्व अरोड़ा घबराकर घर पर आ गया, जब बेटे ने घर आकर सारी बात बतायी तो मैने मनीष राजपूत को फ़ोन किया तो उसने मेरे साथ भी गाली गलौच की तथा मुझे धमकाने लगा।

फैन भगत सिंह दा क्लब के प्रधान मनीष राजपूत

शिकायतकर्ता ने बताया कि जब मै थाने में शिकायत देने आया तो घर जाते वक्त जब वह खिंगरा गेट पहुंचे तो मनीष राजपूत व उसके साथियों ने मुझ पर हमला कर दिया और जब मै अपना बचाव करते हुए दिनेश कुमार की दुकान के अंदर गया तो हमलावरों ने दुकान पर ईंटे और पत्थर मारने शुरू कर दिए, जिससे दुकान के सारे शीशे टूट गए और साथ ही मनीष राजपूत के साथी अमित राजपूत ने मुझ पर रिवाल्वर तान दी और साथ ही हमलावरों ने मेरी सोने की चैन उतार ली। शिकायत कर्ता ने बताया कि मनीष राजपूत और उसके तमाम साथियों ने मेरे साथ मारपीट और झगड़ा किया है। इस सम्बन्ध में थाना डिवीजन नंबर 3 की पुलिस ने आरोपियों पर मामला दर्ज कर लिया है और आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। जिसके बाद थाना 3 की पुलिस ने मनीष राजपूत के खिलाफ आईपीसी धारा 379 बी, 323, 427, 506, 336, 148 और 149 के तहत एफआईआर नंबर 40 के अंतर्गत मामला दर्ज किया है।

न्यूज़ लिंकर्स के साथ बातचीत दौरान थाना डिवीज़न नंबर 3 के थाना प्रभारी सुखजिंदर सिंह ने कहा कि आरोपियों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा। वही फैन भगत सिंह दा क्लब के प्रधान मनीष राजपूत ने न्यूज़ लिंकर्स को बताया कि यह मामला राजनीतिक दबाव में दर्ज किया गया है और इस सब के पीछे जालंधर नार्थ हल्के के एक बड़े नेता का हाथ है और जब उनसे उक्त नेता के बारे में पूछा गया तो वह जवाब देने में असमर्थ नज़र आये।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!