BREAKINGCRIMEDOABAJALANDHARPUNJAB

🔥लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट केस में नया खुलासा:मृतक आरोपी गगनदीप के खालिस्तानी पन्नू व मुल्तानी से जुडे तार!!
🔥सुरक्षा एजेंसियां खंगाल रही गगनदीप के बैंक खाते, महिला मित्र व पत्नी के खातों की भी जांच!!

लुधियाना (न्यूज़ लिंकर्स ब्यूरो) : लुधियाना के कोर्ट कम्पलैक्स में हुए विस्फोट की जांच में रोज नए खुलासे हो रहे है l रणजीत सिंह और सुखजिंदर सिंह को सीआईए-1 कार्यालय लाकर पुलिस ने गहन पूछताछ की थी। जांच में सामने आया है की आरोपी मृतक गगनदीप के निजि बैंक खाते में में 9 दिसंबर से लेकर 12 दिसंबर तक 3 लाख रुपए किश्तों में जमा हुए थे l गगनदीप के बैंक खातों की जांच में यह खुलासा भी हुआ है जमा पैसे भारत से ही अलग-अलग जगहों से जमा करवाए गए हैं। अब जांच एजेंसियों ने इसकी गहन पड़ताल शुरू कर दी है। क्योंकि एजेंसियों की जांच इंटरनेट कॉल से आगे बढ़ नहीं रही है। पुलिस अब इस जांच में जुटी है की गगनदीप को अगर कोई फंडिंग हुई है तो वह कहां से आई थीl बता दे की जांच एजेंसियाों और स्थानीय पुलिस के हाथ रिमांड पर चल रहे रणजीत सिंह और सुखजिंदर सिंह से भी कुछ खास नहीं लग पाया है l गगनदीप की महिला दोस्त से भी पुलिस पूछताछ करने में जुटी हुई है। एक पुलिस सूत्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार अगस्त 2019 में जब STF ने गगनदीप सिंह को पकड़ा था तो उसने पुलिस रिमांड के दौरान काफी चौंका देने वाले खुलासे किए थे। गगनदीप एक अत्यंत शातिर व मोबाईल आपरेट करने में मास्टर था l वह बेहद शार्प माइंड था और मोबाइल ऑपरेट करने का माहिर था। इसलिए उसने कॉलिंग और इंटरनेट चलाने के लिए डोंगल का इस्तेमाल किया था, ताकि वह यहां से निकलने के बाद पकड़ा नहीं जाए। इसी डोंगल के सहारे अब उसका लिंक विदेशों में बैठे अपराधियों से तलाशा जा रहा है। अगस्त 2011 में पकड़े जाने से पहले भी गगनदीप सिंह अपनी उक्त महिला पुलिस कर्मी मित्र के साथ ही था और अब जब उसका नाम लुधियाना ब्लास्ट के साथ जुडा है, तब भी वह विस्फोट से पहले अपनी उक्त सहेली के साथ ही होटल में था। पुलिस व जांच ऐजेंसियों द्वारा मामले की विभिन्न एंगलों से की जा रही जांच में आरोपी गगनदीप के तार सिक्ख फार जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू व उसके नज़दीकी मुल्तानी से जुड़ रहे है l बहरहाल मामले की उच्च स्तरीय जांच जारी है l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!