BREAKINGCRIMEDOABAJALANDHARPOLITICSPUNJAB

🔰चिट्टा पीने व सप्लाई करने के आरोप में पांच और पुलिस कर्मी गिरफ्तार!!
🔰डोप टैस्ट से फिल्लौर पुलिस अकादमी में खुल सकते है और बड़े राज!!

जालंधर/फिल्लौर (हितेश सूरी) : फिल्लौर पुलिस अकादमी में फैले नशे के काले कारोबार का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा। नशे के काले कारोबार में संलिप्त आरोपी सीनियर इंस्ट्रक्टर शक्ति कुमार और कर्मचारी जयराम की गिरफ्तारी के बाद पुलिस के हाथ कई महत्वपूर्ण सुराग लगे हैं जिनके चलते इस मामले में पांच और कांस्टेबल गिरफ्तार किए गए है।आरोप है की यह पांचों पुलिस कर्मी खुद नशे के आदि है व अन्य नशे के आदि कर्मचारियों को नशा सप्लाई कर रहे थे l इनकी पहचान अकादमी में तैनात सिपाही कमलजीत सिंह नंबर 723 तरनतारन, सिपाही गोबिंद सिंह नंबर 502 पीपीए फिल्लौर, सिपाही अमनदीप सिंह नंबर 448 पीपीए फिल्लौर, सिपाही रमनदीप सिंह नंबर 411 पीपीए फिल्लौर, सिपाही हरप्रीत सिंह नंबर 462 पीपीए फिल्लौर के रूप में हुई है। इसी कड़ी में फिल्लौर पुलिस ने गांव जंपदोहा, जगतपुरा की रहने वाली महिला निधि पत्नी गुरदीप को भी 42 ग्राम चिट्टा के साथ गिरफ्तार किया है। निधि ने पुलिस के सामने माना कि उसने शक्ति और जयराम को भी चिट्टा सप्लाई किया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार अकादमी में इन जवानों व सहयोगियों के अलावा कई और पुलिसकर्मी नशा करते हैं। उनकी पहचान डोप टेस्ट करवाने के बाद ही होगी। इस मामले में बनाई गई जांच कमेटी में भी लगभग 10 से 12 लोगों के नाम सामने आए थे जो न सिर्फ नशे के खुद आदि थे बल्कि नशा सप्लाई भी करते थे लेकिन आज तक उनके नाम सार्वजनिक नहीं किए गए और न कोई कार्रवाई की गई। 10 मई को जब कांस्टेबल रमनदीप सिंह की शिकायत पर शक्ति कुमार और जयराम के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था तो भी आरोपितों को सीधे जेल भेजा गया था। बाद में मामले के तूल पकड़ने के बाद पुलिस ने दोनों को रिमांड पर लिया था। उधर, इस मामले में पहले से गिरफ्तार शक्ति और जय को दोबारा दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। इससे पहले भी वह दो दिन के रिमांड पर चल रहे थे। रिमांड के दौरान शक्ति से पूछताछ की गई तो उसी ने बाकी पांचों सिपाहियों के नाम बताए। साथ ही दावा किया वे ये पांचों नशा आगे खरीदते व बेचते हैं। इनसे पूछताछ में राजफाश हो सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!