BREAKINGCHANDIGARHDOABAMAJHAMALWAPOLITICSPUNJAB

🔊किसान संगठनों में फिर पनपा रोष, मुआवजे को लेकर किसानों की मुख्यमंत्री के साथ बैठक रद्द

जालंधर (न्यूज़ लिंकर्स ब्यूरों) : भारत माला प्रोजेक्ट के तहत पंजाब में एक्वायर की जाने वाली जमीनों के मुआवजे को लेकर सरकार के साथ आज किसानों की बैठक बुलाई गई थी। किसान शाम तक इंतजार करते रहे लेकिन बैठक नहीं हो पाई। अंत में उन्हें कह दिया गया कि बैठक फिलहाल रद्द हो गई है। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री कार्यालय से अगली बैठक के लिए डेट दे दी जाएगी। गौरतलब है कि किसानों ने जब पिछले दिनों गुरदासपुर में भूमि अधिग्रहण का विरोध किया था तो उन पर लाठीचार्ज किया गया था, जिसके विरोध में किसानों ने रेलवे ट्रैक पर धरना लगा दिया था। सरकार ने किसी विवाद से बचने के लिए मजदूर किसान संघर्ष कमेटी के साथ-साथ अन्य संगठनों को 24 मई को मीटिंग का समय दिया था। चंडीगढ़ के पंजाब भवन में मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव और कृषि, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल से किसानों के साथ बैठक फिक्स थी। लेकिन मीटिंग न होने पर किसान नेताओं में रोष है। किसान नेताओं ने कहा कि मसले का हल निकालने की बजाय सरकार उन्हें मूर्ख बना रही है। धरने को टालने के लिए बैठक का समय दिया गया था। मजदूर किसान संघर्ष कमेटी की तरफ से सुखविंदर सिंह सबरा, रणवीर सिंह राणा, सरवण सिंह पंधेर, सतनाम सिंह पन्नू सहित अन्य किसान नेताओं का कहना है कि भारत माला प्रोजेक्ट के तहत एक्वायर की जा रही जमीनों का मुआवजा एक तो कम दिया जा रहा है और ऊपर से उसमें भी भेदभाव किया जा रहा है। उनका कहना है कि एक ही गांव में जमीन के दो-दो भाव हैं और एक ही गांव में अलग-अलग तरह का मुआवजा मिल रहा है। किसान नेताओं का कहना है कि कुछ किसान लैंड लेस और हाउस लैस हुए हैं उन पर कोई फैसला नहीं लिया गया है, उन्हें मुआवजे के साथ जमीन भी उपलब्ध करवाई जाए। बता दे कि गुरदासपुर में मुआवजे को लेकर मजदूर किसान संघर्ष कमेटी के कार्यकर्ता पिछले काफी समय से धरना दे रहे हैं। पिछले दिनों जब प्रशासन के अधिकारी पुलिस टीम के साथ जमीन का अधिग्रहण करने पहुंचे तो वहां पर किसान भी आ गए। किसानों ने भूमि अधिग्रहण का काम रोक दिया और उनकी पुलिस के साथ झड़प हो गई थी। इस झड़प के बाद पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया था। इस लाठीचार्ज में पुलिस ने महिलाओं को भी नहीं बख्शा था। पुलिस वालों ने महिलाओं को भी पीटा। पुलिस कर्मी द्वारा महिला की पिटाई की वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुई थी। जिसके बाद किसानों ने विरोध में रेलवे ट्रैक रोक दिए थे। इसके बाद सरकार ने बैठक का समय दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!