BREAKINGCHANDIGARHCRIMEDOABAJALANDHARMAJHAMALWAMANSAPUNJAB

🛑 मूसेवाला हत्याकांड : गैंगस्टर लारेंस का भतीजा सचिन दुबई में गिरफ्तार, मूसेवाल हत्याकांड का मास्टरमाइंड था गैंगस्टर सचिन
🛑भारत लाने टीम रवाना; कई बड़े खुलासे होने की सम्भावना, लारेंस गैंग की टूटी कमर

जालंधर (योगेश सूरी) : गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई का भतीजा व पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का मास्टरमाइंड गैंगस्टर सचिन को दुबई पुलिस ने अजरबैजान से गिरफ्तार कर लिया है। उसे अब विदेश से भारत प्रत्यर्पण के लिए एक टीम अजरबैजान के लिए रवाना हो गई है जो 1-2 दिन तक गैंगस्टर सचिन को लेकर दिल्ली पहुंचेंगी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के आज रात तक अजरबैजान पहुंचने की उम्मीद है l एक सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) और काउंटर इंटेलिजेंस यूनिट के दो इंस्पेक्टरों सहित चार अधिकारियों की संयुक्त टीम को सचिन बिश्नोई के भारत प्रत्यर्पण को सुनिश्चित करने का काम सौंपा गया है lसुरक्षा एजेंसियों की रिपोर्ट के अनुसार गैंगस्टर सचिन गत वर्ष 29 मई 2022 को मूसेवाला की हत्या करने के बाद फरार हो गया था। सचिन फर्जी पासपोर्ट का इस्तेमाल करके देश से बाहर भागा था। फर्जी पासपोर्ट दिल्ली के संगम विहार इलाके के एक पते पर बनाया गया था। इस फर्जी पासपोर्ट में सचिन का नकली नाम तिलक राज टुटेजा लिखा था।सूत्रों के अनुसार सचिन ने दुबई बेस्ड दिल्ली के एक कारोबारी गैलन से 50 करोड़ की फिरौती भी मांगी थी। टी-10 टीम के मालिक से 50 करोड़ रुपए फिरौती मांगने की कॉल रिकॉर्डिंग भी काफी चर्चा में रही थी। इसी मामले में सचिन को पकड़ा गया है। पिछले दिनों दिल्ली समेत अन्य राज्यों में कारोबारियों से लॉरेंस के नाम पर फिरौती मांगने के मामले भी सामने आए थे। इसमें सचिन की भूमिका सामने आई है। गैगस्टर सचिन के फर्जी पासपोर्ट का पर्दाफाश का तब हुआ था जब पुलिस ने गैंगस्टर्स के फर्जी पासपोर्ट बनवाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। मामले में पुलिस ने महिला समेत 5 लोगों को गिरफ्तार किया था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मास्टरमाइंड सचिन ने कनाडा में गैंग चला रहे सतिंदरजीत सिंह उर्फ गोल्डी बराड़, तिहाड़ जेल में बंद काला जठेड़ी और लॉरेंस बिश्नोई से कोड वर्ड में बातचीत करके मूसेवाला की हत्या की साजिश रची थी। पुलिस और खुफियां एजेंसियों को कई शक न हो, इसलिए सचिन गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से फोन पर बात करने के दौरान उसे ‘डॉक्टर’ कहकर बुलाता था। इसी तरह गैंगस्टर काला जठेड़ी को वह ‘अल्फा’ कहता था। अपने गुर्गों के जरिए वह लॉरेंस से बात करता था। पंजाब और दिल्ली पुलिस को भ्रमित करने के लिए सचिन ने खुद सोशल मीडिया पर यह अफवाह फैलाई कि उसने खुद सिद्धू मूसेवाला को गोलियां मारी हैं। बताया जा रहा है कि ऐसा सचिन ने पंजाब और दिल्ली पुलिस को भ्रमित करने के लिए किया था, जबकि वह इस हत्याकांड से पहले 21 अप्रैल 2022 को ही विदेश भाग गया था। बहरहाल गैंगस्टर सचिन की गिरफ्तारी से न केवल लारेंस गैंग को ही एक बड़ा झटका लगा है बल्कि इसके भारत आने के बाद कई बड़े खुलासे होनें की सम्भावना है l

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!