AMRITSARBARNALABATHINDABEPARDABREAKINGCHANDIGARHCRIMEDOABAFARIDKOTFATEHGARH SAHIBFAZILKAFIROZPURGURDASPURHOSHIARPURJALANDHARKAPURTHALALUDHIANAMAJHAMALERKOTLAMALWAMANSAMOGAMOHALIMUKTSARNATIONALNAWANSHAHRPATHANKOTPATIALAPHAGWARAPOLITICSPUNJABROPARSANGRURTARN TARAN

🔴चाइना डोर का धंधा करने वालों के सामने प्रशासन पस्त : महानगर में ज़ोरो-शोरो से चल रहा है चाइना डोर का गोरख धंधा ; इन इलाकों में बिक रही है चाइना डोर!!

जालंधर (हितेश सूरी) : नए साल, लोहड़ी, गणतंत्र दिवस, बसंत पंचमी आदि त्योहारों के दस्तक देते ही महानगर में चाइना डोर का गोरख धंधा करने वाले सक्रिय हो जाते हैं। महानगर में अब चाइना डोर का गोरख धंधा शुरू हो चुका है। सरकार की पाबंदी के बावजूद भी महानगर में चाइना डोर बेचने व खरीदने वाले लोग बाज नहीं आ रहे हैं, ऐसे में यह प्रतीत हो रहा है कि चाइना डोर का धंधा करने वालों के सामने प्रशासन पस्त हो चुका है। महानगर में एक बार फिर से पतंगबाजी के शौकीनों द्वारा घातक चाइना डोर के इस्तेमाल के कारण बेगुनाह इंसानी जिंदगियों और बेजुबान पशु, पक्षियों के सिर पर मौत का खतरा मंडराने की आशंकाएं जोर पकड़ने लगी हैं। सूत्रों के अनुसार यह गोरख धंधा करने वाले मोटी कमाई करते हैं, जिसका कुछ हिस्सा पुलिस की कुछ काली भेड़ों को भी देते हैं। इसी कारण दुकानदार बिना किसी डर से धड़ल्ले से चाइना डोर का कारोबार कर रहे हैं और ग्राहकों से मोटा पैसा वसूल कर रहे हैं। यहां बताना अनिवार्य होगा कि चाइना डोर नायलॉन या किसी सिंथेटिक चीज से बना हुआ होता है, जो आसानी से टूटता नहीं है, चाइना डोर को किसी धारदार चीज से ही काटा जा सकता है, इसलिए कुछ ग्राहक इस चाइनीज डोर की मांग करते हैं, जिससे अधिक समय तक पतंगबाजी का आनंद लिया जा सके।

इन इलाकों में सरे-आम चाइना डोर की हो रही है विक्री

सूत्रों की मानें तो महानगर के कुछ ऐसे इलाके जैसे शेखा बाजार, बस्ती शेख, इमाम नासिर, गुड़ मंडी, खिंगरा गेट किशनपुरा, क़ाज़ी मंडी, रामा मंडी, रैनक बाजार, अटारी बाजार, ज्योति चौंक, दोआबा चौंक, सोढल रोड़, सेंट्रल टाउन, भगवान वाल्मीकि गेट, भगत सिंह चौंक समीप पंज पीर, प्रताप बाग़, लाडोवाली रोड, एस डी कॉलेज मार्किट समीप मोहल्ला गोबिंदगढ़, बस्तियात क्षेत्र इत्यादि इलाकों में सरे-आम चाइना डोर की विक्री हो रही है।

कैसे बिक रही है चाइना डोर

सूत्रों के मुताबिक कुछ पुलिस अधिकारियों, मीडिया कर्मियों, कुछ राजनितिक, सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक नेताओं की मिलीभगत से कुछ दुकानदार चाइना डोर बेच रहे है। सूत्रों के मुताबिक चाइना डोर का गोरख-धंधा करने वाले लोग चाइना डोर की पेटियां खरीदकर अपने घरों, गोदामों व अपने गुप्त ठिकानों पर जमा कर लेते है और गली-मोहल्लें में लोगो को विभिन्न रेटों पर चाइना डोर बेच रहे है और इतना ही नहीं कुछ लोग एक्टिवा की डिक्की में चाइना डोर छुपाकर लोगो को बेच रहे है। सूत्रों के अनुसार दुकानदारों द्वारा छोटा गट्टू 350 रूपए और बड़ा 550 रुपये में बेचा जा रहा है। वही ज्यादातर पतंगों वाली दुकानों से ही चाइना डोर बरामद की जाती है। पुलिस की आँखों में धूल झोंककर छोटे दुकानदार भी चाइना डोर बेच रहे है। गौर हो कि ज्यादातर लोगों द्वारा नए साल, लोहड़ी, गणतंत्र दिवस, बसंत पंचमी आदि त्योहारों पर पतंग उड़ाने हेतु बाज़ारों में चाइना डोर खरीदी और बेचीं जाती है और वही पुलिस को भी इन त्योहारों पर सख्ती करते हुए छापामारी करनी चाहिए, लेकिन पुलिस तो सिर्फ चाइना डोर से होने वाली किसी बड़ी घटना का इंतज़ार कर रही होती है।

पिछले साल डीजीपी ने जारी किये थे आदेश

पंजाब के डीजीपी गौरव यादव

पिछले साल ही पंजाब के डीजीपी गौरव यादव ने चाइना डोर की विक्री के खिलाफ सख्त आदेश जारी करते हुए कहा था कि चाइना डोर खरीदने और बेचने वाले आम लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं, इसलिए यह गोरख धंधा करने वालों पर कार्रवाई होना बहुत जरुरी है। वही डी.जी.पी. द्वारा आदेश जारी करने के बावजूद भी पिछले वर्ष राज्य में सरेआम चाइना डोर खरीदी व बेचीं गयी।

क्या कहना है आम लोगो का

आम लोगो का कहना है कि अब तक चाइना डोर की खरीददारी व बिक्री को रोकने में पंजाब सरकार व पुलिस प्रशासन फेल साबित हुई है। उनका कहना है कि पिछले कुछ सालों में बहुत सारे लोग चाइना डोर से जख्मी हुए तथा कई इलाके में बिजली की तारों से चिंगारिया तथा धमाके हुए और साथ ही कुछ पंछियों को भी अपनी जान से हाथ धोने पड़े, ऐसे में यह प्रतीत हो रहा है कि कानून की सख्ती सिर्फ कानूनी किताबों में ही दर्ज है और कोई भी सरकार आये पंजाब के हालात सुधरते हुए कही दिखाई नहीं दे रहे है। लोगो का कहना है कि अगर पुलिस चाहे तो क्या नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस अपनी ज़िम्मेदारी सही ढंग से निभाती तो चाइना डोर का राज्य में नामों निशान मिट जाना था, लेकिन पुलिस तो सिर्फ चाइना डोर से होने वाली किसी बड़ी घटना के बाद ही कोई कार्रवाई करती है। आपको बता दे कि मांझे वाली बरेली डोर के ज्यादा दाम होने की वजह से लोग चाइना डोर खरीद रहे है, इसलिए पुलिस प्रशासन व पंजाब सरकार को इस बारे में भी सोचना चाहिए, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग जानलेवा चाइना चोर को छोड़कर मांझे वाली डोर को खरीदें, जिससे अपनी जान व दुसरो की जान की सुरक्षा सुनिक्षित की जा सके।

पंजाब सरकार ने उठाया यह कदम

पंजाब के सीएम भगवंत मान

पंजाब के सीएम भगवंत मान के दिशा-निर्देशानुसार पंजाब सरकार ने चाइना डोर पर पर पाबंदी लगाते हुए चाइना डोर से पतंग उड़ाने, डोर बेचने और खरीदने वालों के पकड़े जाने पर 5 वर्ष की कैद और 1 लाख रुपए जुर्माना करने के आदेश दिए है। सरकार ने इस आदेश को और प्रभावशाली ढंग से और सख्ती से लागू करने के लिए हिदायतें जारी की हैं। पंजाब सरकार ने अपने आदेश अनुसार चाइना डोर, कांच या अन्य धातु के पाउडर से बनी डोर पर पूर्ण पाबंदी लगाते हुए सिर्फ सूती धागे के साथ पतंग उड़ाने की मंजूरी दी है और साथ ही नई अधिसूचना को लागू करने और दोषी के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए स्पष्ट अधिकार दिए गए हैं। चाइना डोर की पूर्ण पाबंदी सम्बन्धी इनवायरनमेंट (प्रोटेक्शन) एक्ट, 1986 की धारा 5 के अधीन हिदायतें जारी की गयी हैं जिनका उल्लंघन करने पर 5 साल तक की सजा और एक लाख रुपए तक जुर्माना या दोनों हो सकते हैं। पंजाब के सभी कार्यकारी मैजिस्ट्रेट, राजस्व विभाग के तहसीलदार और उच्च अधिकारी, वन विभाग के वन्य जीव इंस्पेक्टर और उच्च अधिकारी, पंजाब पुलिस के सब-इंस्पेक्टर और उच्च अधिकारी, स्थानीय निकाय के दर्जा सी कर्मचारी और उच्च अधिकारी, पंजाब प्रदूषण रोकथाम बोर्ड के सहायक पर्यावरण इंजीनियर और उच्च अधिकारियों को उक्त हिदायतों को राज्य में लागू करने के लिए अधिकार दिए गए हैं तथा सम्बन्धित विभाग को पाबंदी सम्बन्धी हिदायतों को सख़्ती से लागू करने के आदेश दिए हैं, जिससे बहुमूल्य मानवीय जानों को बचाने के साथ-साथ पशु, पक्षियों आदि की रक्षा भी हो सके।

  • आगामी दिनों में देश में बैन हुई चाइना डोर के खिलाफ न्यूज़ लिंकर्स विशेष अभियान शुरू करने जा रहा है, जिसके तहत न्यूज़ लिंकर्स द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में युवाओं से गुप्त सर्वे करके उनसे पता लगाया जायेगा कि वह चाइना डोर किससे खरीदते है और उन्हें जागरूक भी किया जायेगा तथा चाइना डोर बेचने वालों का पर्दाफाश किया जायेगा। (क्रमश)

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!