BREAKINGCHANDIGARHCRIMEDOABAINTERNATIONALMAJHAMALWANATIONALPOLITICSPUNJAB

🛑 आंतक की मौत : खालिस्तानी आंतकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की अमेरिका में कार हादसे में मौत
🛑 सिक्ख फार जस्टिस के नाम से चला रहा था भारत में खालिस्तानी मूवमैंट
🛑देखें वायरल हो रही तस्वीरें

जालंधर (योगेश सूरी) : विदेश में रह कर भारत में खालिस्तान की मूवमैंट अपरेट कर रहे आतंकवादी संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) के कुख्यात खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की अमेरिका में सड़क दुर्घटना में मौत हो गई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक अमेरिका के हाईवे 101 पर पन्नू का एक्सीडेंट हुआ। हालांकि यह जानकारी सूत्रों से मिली है, जिसकी किसी तरफ से औपचारिक पुष्टि नहीं की गई है। पन्नू पिछले कुछ समय से अंडरग्राउंड था।

यह भी देखें : खालिस्तान फ्रीडम रैली का चहुंतरफा विरोध, विदेशो में बैठे सिक्ख भी खालिस्तान समर्थकों से हुए नाराज ; विदेशों में हो सकती है खालिस्तान समर्थकों पर बड़ी कार्रवाई, सिक्खों ने पूछा-किसकी इजाजत से लगाए गुरु साहिबानों के साथ आंतकीयों के चित्र

लोकेशन ट्रेस न हो, इसके लिए उसने मोबाइल भी स्विच ऑफ कर रखा था। पाकिस्तान में परमजीत सिंह पंजवड़ और कनाडा में हरदीप सिंह निज्जर की हत्या और UK में अवतार सिंह खांडा की मौत के बाद पन्नू को डर था कि उसकी भी हत्या हो सकती है।

कई मीडिया प्लेटफार्म पर दावा किया जा रहा है कि एक्सीडेंट का शिकार हुई ये गाड़ी SFJ प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू की ही है। हालांकि न्यूज़ लिंकर्स इसकी पुष्टि नहीं करता। गुरपतवंत सिंह पन्नू मूल रूप से अमृतसर के खानकोट गांव का रहने वाला था।​ जिसके बाद वह विदेश चला गया। वहां पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के इशारे पर ​​​​​खालिस्तानी मंसूबों को पूरा करने में जुट गया। वह अमेरिका के अलावा इंग्लैंड और कनाडा में अपने संगठन के जरिए भारत विरोधी प्रोपेगंडा चलाता रहा।

यह भी देखें : मूसेवाला की हत्या के आरोपी लॉरेंस बिश्नोई सहित 10-12 गैंगस्टर्स पहुंच सकते है कालापानी, NIA ने गृह मंत्रालय को लिखी चिट्ठी

खालिस्तान की मांग के नाम पर वीडियो जारी कर वह पंजाब में अशांति फैलाने की कोशिश में जुटा हुआ हुआ था। भारत की एजेंसियों को बदनाम कर उन पर दबाव बनाने की कोशिश करता था। हाल ही में उसने खालिस्तान समर्थकों की हत्या के बाद इसके लिए कनाडा और अमेरिका में भारतीय दूतावास के अफसरों को जिम्मेदार ठहराते हुए वीडियो भी जारी किया था। यह उसका धमकी भरा आखिरी वीडियो था। पन्नू UK बैठे बब्बर खालसा इंटरनेशनल के परमजीत सिंह पम्मा, कनाडा में रहने वाले KTF चीफ हरदीप सिंह निज्जर और इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के मलकीत सिंह फौजी के संपर्क में था।

यह भी देखें : बदला या बौखलाहट : आंतकी हरदीप निज्जर की हत्या से बौखलाए खालिस्तानियों ने USA में भारतीय दूतावास में लगाई आग, बताया “बदला”

वह पंजाब के गैंगस्टरों और युवाओं को अलग खालिस्तान देश के लिए लड़ने के लिए उकसा रहा था। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उसे आतंकवादी घोषित किया था। गुरपतवंत पन्नू अमेरिका में बैठकर पिछले लंबे समय से ‘पंजाब रेफरेंडम 2020’ नाम से खालिस्तानी आंदोलन चला रहा था। यहां वह सिखों को उकसाने की कोशिश कर रहा था।

यह भी देखें : आंतकी हरदीप निज्जर की हत्या से बौखलाए देश-विदेश में सरगर्म खालिस्तान समर्थक, विदेश में बैठे पन्नू ने 8 जुलाई को विदेशों में भारतीय दूतावासों को घेरने की घोषणा की तो दल खालसा ने कल अमृतसर में लगाए खालिस्तान के पक्ष में नारे ; आंतकी निज्जर की हत्या के विरुद्ध RAW का दफ्तर घेरना चाहते थे खालिस्तान समर्थक, पुलिस ने किए काबू

सिखों को खालिस्तान मुहिम से जोड़ने के लिए पन्नू सोशल मीडिया का सहारा लेता था। पन्नू के लिए खालिस्तानी नारे लिखने के लिए वह फंडिंग भी करता था। पंजाब में ऐसे कई लोग पकड़े गए, जिन्होंने पन्नू के कहने पर सरकारी और सार्वजनिक जगहों पर खालिस्तानी नारे लिखकर माहौल भड़काने का काम किया था। हालांकि कैलिफोर्निया में द खालसा टुडे एडिटर इन चीफ और सीईओ सुक्खी चहल ने ट्विटर पर लिखा है कि पन्नू की मौत नहीं हुई है। उसकी मौत बस एक अफवाह है। सुक्खी चहल अलगाववादियों के विरोधी के रूप में जाने जाते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!